Loading......

इन 9 तरीकों से मानसिक स्वास्थ्य से मानसिक कल्याण तक की यात्रा

कोई व्यक्ति मानसिक स्वास्थ्य में सुधार कैसे कर सकता है? हम आपको अपने मानसिक कल्याण का प्रबंधन करने के लिए 9 तरीके बताते हैं।

blogimage-57

मानसिक स्वास्थ्य व्यक्ति की भलाई के लिए महत्वपूर्ण है और इसका शारीरिक स्वास्थ्य से भी सीधा संबंध है। एक व्यक्ति का मिज़ाज उन संबंधों की गुणवत्ता से जुड़ा होता है जो हम व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में विकसित करते हैं। मानसिक स्वास्थ्य एक ऐसा विषय है जिसके बारे में व्यापक ग़लतफ़हमी रहती है और जो लोग सहायता तलाशते हैं उनके साथ एक कलंक सा जोड़ दिया जाता है। हालाँकि, हाल के वर्षों में, लोगों में मानसिक स्वास्थ्य के महत्व और मानसिक कल्याण पर काम करने की आवश्यकता के लिए बदलाव की लहर देखी गई है।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (10 अक्टूबर 2020), जागरूकता बढ़ाने और इसके इर्द-गिर्द बने कलंक को मिटाने के लिए मनाया जाता है।

सर्वेक्षणों के अनुसार, मानसिक स्वास्थ्य सम्बन्धी विकार दुनिया भर में व्यापक हैं। कई मामलों का अक्सर पता लगाया नहीं जाता या उनको हल नहीं किया जाता है जिससे दुनिया भर में मानसिक स्वास्थ्य विकारों के प्रसार को समझना मुश्किल हो जाता है। डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) द्वारा वैश्विक आंकड़े आत्महत्या को वैश्विक स्तर पर 15-29 आयु वर्ग के लिए मृत्यु का दूसरा प्रमुख कारण बताते हैं।

इसलिए, मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत करना एक प्राथमिक ज़रूरत है। डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अनुसार, डिप्रेशन इस साल दुनिया भर में दूसरी सबसे बड़ी बीमारी होगी।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस जागरूकता: ख़राब मानसिक स्वास्थ्य के संकेतक

  1. शारीरिक स्वास्थ्य में गिरावट
  2. खाने की ग़लत आदतें
  3. शौक पालने या समाज में घुलने-मिलने में अरुचि 
  4.  ख़राब रिश्ते
  5. कमतर आत्मसम्मान
  6. दिल की बीमारियों की बढ़ी हुई संभावना 
  7. नींद की अयोग्य पैटर्न
  8. व्यसन या मादक द्रव्यों का सेवन

खराब मानसिक स्वास्थ्य व्यक्ति को शारीरिक रूप से प्रभावित करता है। यह किसी के व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन को भी प्रभावित करता है। मानसिक कल्याण की गतिविधियों और पेशेवर देखभाल पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

लोग अब अपने मनोवैज्ञानिक, भावनात्मक और सामाजिक कल्याण में संतुलन रखने की आवश्यकता के बारे में जागृत हो रहे हैं।

जबकि दुनिया भर में सामान्य धारणा बदल रही है, ऐसे कई तरीके हैं जिससे हम मानसिक बीमारी से लड़ सकते हैं। वैश्विक स्तर पर, दुनिया खुशहाल जीवन जीने के कई तरीकों को जान चुकी है। ‘विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस’ का महत्व हर तरफ बढ़ता जा रहा है। इसका मतलब यह है कि दुनिया मानसिक स्वास्थ्य की चिंता करने से परे अपने मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने की आदतों पर ध्यान केंद्रित करने की और अग्रसर है। 

मानसिक कल्याण के क्षेत्र में इतनी हल-चल क्यों हैं?

लोग अब अपने मनोवैज्ञानिक, भावनात्मक और सामाजिक कल्याण में संतुलन रखने की आवश्यकता से अवगत हो रहे हैं। संतुलित मानसिक स्वास्थ्य के कारन व्यक्ति स्वयं में आत्मविश्वास रखते हुए, बेहतर निर्णय लेने की क्षमता रखता है और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भावनाओं का बेहतर प्रबंधन करता है।

मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए 9 तरीके और युक्तियाँ


वैश्विक स्तर पर, ऐसे कई अलग-अलग तरीके हैं जिनके माध्यम से लोग अपने मानसिक स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। आइए देखते है।

1. काउंसलिंग

पेशेवर काउंसलर्स अपने क्लायंट को ध्वनि तकनीकों और रणनीतियों का उपयोग करके अपने दिमाग को मजबूत करने की दिशा में मार्गदर्शन करने में सहायता करते हैं। काउंसलर समस्या को सुनता है और क्लायंट को भावनात्मक मुद्दों के समाधान खोजने में मदद करता है। काउंसलर अपने दृष्टिकोण में तटस्थ होते हैं और क्लायंट को स्पष्टता की ओर ले जाते हैं। वह नैदानिक तरीकों के माध्यम से अतीत के मानसिक आघातों और गहरी जड़ोंवाली समस्याओं को हल करने के लिए प्रशिक्षित होते है। काउंसलर सलाह देने या समस्याओं का समाधान करने का काम नहीं करते। बल्कि, वे मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए व्यक्ति का स्वयं पर भरोसा बढ़ाकर उसे मजबूत करते हैं।

2. मनोचिकित्सा

मनोचिकित्सा, जिसे "टॉक थेरेपी" के रूप में भी जाना जाता है, का उद्देश्य आंतरिक भावनात्मक मुद्दों और मानसिक बीमारियों को हल करना है जो अक्सर एक व्यक्ति को अपनी इच्छानुसार जीवन जीने से रोकते हैं। मनोचिकित्सक अक्सर किसी व्यक्ति से पिछले अनुभवों को फिर से याद करने और वर्तमान समस्याओं के साथ उसके संबंध की गहरी समझ प्राप्त करने का आग्रह करते हैं। क्लायंट अपनी भावनाओं और मुद्दों को समझते हुए अत्यधिक आत्म-जागरूक हो जाता है। कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी (CBT), इंटरपर्सनल थेरेपी, डायलेक्टिकल बिहेवियर थेरेपी, साइकोडायनामिक थेरेपी, साइकोएनालिसिस, सपोर्टिव थेरेपी, इ. इस मनोचिकित्सा का हिस्सा हैं। मनोचिकित्सक और मनोवैज्ञानिक, साथ ही पेशेवर और लाइसेंस प्राप्त काउंसलर, रिश्ते या शादी के सलाहकार, और ऐसे अन्य पेशेवर क्लायंट के भावनात्मक मुद्दों को हल करने के लिए आधार के रूप में मनोचिकित्सा का उपयोग करते हैं।.

3. सम्मोहन चिकित्सा

मानसिक बीमारी के लिए इस वैकल्पिक उपचार को अक्सर आधुनिक उपचारों के साथ जोड़ा जाता है। सम्मोहन चिकित्सा सभी प्रकार की मानसिक बीमारियों के लिए उपयोगी है, विशेष रूप से नशे की लत की समस्याएँ, बदलती विश्वास प्रणालियाँ, भय और डर को ठीक करने, दर्दनाक अतीत या मानसिक आघात से बचने और कई अन्य समस्याओं के लिए। हिप्नोथेरेपी सम्मोहन का उपयोग किसी मरीज़ को स्पष्टता का अवकाश प्राप्त कराने के किसी उपकरण के रूप में करता है। एक प्रमाणित हाइपोथेरेपिस्ट मरीज़ में आराम की गहरी स्थिति को प्रेरित करता है जिससे ध्यान केंद्रित होता है और क्लायंट के जीवन में मूल्य जोड़ने वाले नए विचार पैटर्न स्थापित करने के लिए 'सजेस्टिबिलिटी' का उपयोग करता है। एक क्लायंट जो हिप्नोथेरेपी को अपनाता है, जल्द ही खुद को उन पैटर्नों से दूर पाता है जो उसके जीवन में किसी उद्देश्य को पूरा नहीं करते हैं।

4. रेकी उपचार

चिकित्सा का यह वैकल्पिक रूप रेकी प्रैक्टिशनर की हथेलियों से क्लायंट को ऊर्जा के हस्तांतरण का इस्तेमाल करता है। यद्यपि जापान को इसका उद्गम स्थल माना जाता है, रेकी का उपयोग दुनिया भर में और अक्सर अन्य चिकित्सा उपचारों के साथ किया जाता है। रेकी उपचार दर्द, बेचैनी, तनाव, डिप्रेशन, चिंता और अन्य समस्याओं से राहत देने का काम करता है। बिना किसी साइड-इफेक्ट के रेकी उपचार कई तरह की मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए सुरक्षित है।

5. योग

योग "जुड़ने" को संदर्भित करता है और अक्सर इसे विश्व स्तर पर व्यायाम का एक रूप माना जाता है। योग "शरीर और मन" का मिलन है। योग आसन, श्वास, और मानसिक व्यायाम का एक संयोजन है जिसका आविष्कार प्राचीन भारत में हुआ था। यद्यपि योग को पश्चिमी दुनिया में एक अभ्यास के रूप में माना जाता है, लेकिन इसका उद्देश्य वास्तविकता की अधिक समझ के साथ इंद्रियों को शांत करना है। योग हमें आसन करते समय कोई अपेक्षा नहीं रखने के लिए प्रोत्साहित करता है। योग का लक्ष्य मुक्ति है; एक अवधारणा जो मानसिक स्वास्थ्य के निर्माण के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। यह मानसिक मुद्दों से पीड़ित सभीके लिए भी फायदेमंद है क्योंकि यह उपस्थिति और ज्ञान को अधिक से अधिक बढ़ाते हुए आंतरिक शांति लाता है। यह शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास का एक शानदार संयोजन है, जिसे अनुशासन के साथ पालन करने की आवश्यकता है।

जागरूकता का दैनिक अभ्यास मन को नकारात्मक विचार प्रक्रियाओं के बारे में जागरूक करता है और बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए उन्हें पुन: संरेखित करने के लिए मजबूत करता है।

6. चक्र चिकित्सा

व्यक्ति का मानसिक स्वास्थ्य आध्यात्मिक और शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़ा है। चक्र एक पहिये को दर्शाता है और व्यक्ति के ऊर्जा बिंदुओं का प्रतिनिधित्व करता है। हिंदू धर्म के साथ-साथ बौद्ध धर्म के ग्रंथों में चक्र बिंदुओं का उल्लेख है। हिंदू धर्म में 7 चक्र बिंदु हैं जो सहस्रार चक्र (मस्तिष्क), अजना चक्र (भवें), विशुद्ध चक्र (गला), अनाहत चक्र (हृदय), मणिपुर चक्र (नाभि), स्वाधिष्ठान चक्र (त्रिक) और मूलाधार चक्र (मूल) हैं।  इन अंगों की ऊर्जा जोकि व्यक्ति के हार्मोन, ऊतकों और अन्य कार्यों के स्वास्थ्य को नियंत्रित करती है, असंतुलित होने पर उसे चक्र उपचार की आवश्यकता होती है। चाहे कोई स्वास्थ्य-स्थिति हो, जैसेकि उच्च रक्तचाप या डिप्रेशन जैसी भावनात्मक स्थिति, यह सभी विशिष्ट चक्रों से जुड़ी होती है। चक्र ध्यान, सुगंध चिकित्सा, रंग चिकित्सा, चक्र साधना और ऐसी अन्य तकनीकों का उपयोग अक्सर शरीर में नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है।

7. न्यूरो-लिंग्विस्टिक प्रोग्रामिंग (एनएलपी)

एनएलपी विभिन्न देशों में लोकप्रिय है और अमेरिका में 70 और 80 के दशक के अंत में अत्यधिक लोकप्रिय था। एनएलपी के सह-संस्थापक; रिचर्ड बंडलर और जॉन ग्राइंडर ने मस्तिष्क की भाषा विकसित की, जो किसी व्यक्ति के साथ संवाद करने के तरीके को बेहतर करती है। एनएलपी की लोकप्रियता बढ़ी और कई चिकित्सकों ने इन शिक्षाओं को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फैलाया। एनएलपी स्वयं को सीमित करने वाले विश्वासों को हटाने, आत्मविश्वास बढ़ाने, किसी की भावनाओं को समझने, रिश्तों को बढ़ाने, इ. के द्वारा  स्वयं में बड़े बदलाव लाने में मदद करता है। यह मानसिक स्वास्थ्य का प्रबंधन करने के लिए उपयोगी है क्योंकि कोई भी व्यक्ति समझता है कि अवचेतन मन के साथ ऐसे गहरे संबंध से जीवन में नए विचार पैटर्न बन सकता है।

8. प्रशिक्षण 

प्रशिक्षण से मरीज़ का ध्यान वर्तमान क्षण पर केंद्रित होता है और यह मानसिक स्वास्थ्य के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चिकित्सा या उपचार के अन्य रूपों के विपरीत, प्रशिक्षण क्रिया-उन्मुख है। यह किसी व्यक्ति को स्वयं के प्रति जवाबदेही की गहरी भावना के साथ लक्ष्य बनाने पर काम करने के लिए प्रवृत्त करता है। प्रशिक्षण से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है क्योंकि यह प्रशिक्षक से सीखे हुए  टूल और तकनीकों के माध्यम से माइंड गेम को बदलने की क्षमता को बढ़ाता है। प्रशिक्षण किसी व्यक्ति को उसके अंदर से उठती नकारात्मक आवाज को शांत करते हुए विचारों में स्पष्टता पैदा करके कृति करने में मदद करता है। प्रशिक्षण नेतृत्व गुणों का निर्माण करने के लिए उत्कृष्ट है और किसी व्यक्ति की छिपी क्षमता को अनलॉक करने के लिए काम करता है। यह किसी व्यक्ति के हाथों में उन विचारों से, जो किसी भी उद्देश्य की पूर्ति नहीं करते हैं, दूर जाने और एक सफल जीवन बनाने की शक्ति देता है।

9. जागरूकता का अभ्यास 

किसी व्यक्ति के मनोवैज्ञानिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए जागरूकता केअत्यधिक लाभ हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि जागृति ने आध्यात्मिक अभ्यास के रूप में दुनिया भर में लोकप्रियता हासिल की है। जागरूकता किसी व्यक्ति की विचार शक्ति, भावनात्मक संवेदनशीलता, स्वयं और अन्य लोगों के साथ संवाद, इ.  विकसित करने की दिशा में काम करते हुए साँस और मन के बारे में जागरूकता बढ़ाती है। एक व्यक्ति तटस्थ तरीके से वर्त्तमान पल में होना सीखता है। जागरूकता का दैनिक अभ्यास मन को नकारात्मक विचार प्रक्रियाओं के बारे में जागरूक करने और बेहतर मानसिक स्वाथ्य के लिए उन्हें संरेखित करने के लिए मज़बूत बनाता है।  विचारों को महत्व देना सीखते हुए व्यक्ति ध्यान की उच्च भावना विकसित करते हुए जीवन में मूल्य जोड़ता है। 

उपरोक्त विधियों के अलावा कला, नृत्य, संगीत, विज़ुअलाइज़ेशन तकनीक, इ. मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए मानसिक स्वास्थ्य गतिविधियाँ हैं।

हमें उम्मीद है कि हमारे 'विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस' जागरूकता ब्लॉग’ ने आपको मानसिक शक्ति बढ़ाने के नए तरीके दिए हैं। कोई सवाल है? हमें info@tavamitram.org पर लिखें। आप अपनी चिंताओं को हमारे 'कन्फेशन बॉक्स'; में भी साझा कर सकते हैं। यह अनाम है। यदि आप हमारे कार्य के बारे में उत्साही हैं, तो आप हमारी पहल का समर्थन करने के लिए अपना समय या पैसा दान कर सकते हैं या एक स्वयंसेवक के रूप में हमसे जुड़ सकते हैं।

Join the Tava-Mitram Campaign
"My Mental Health, My Priority"

Register Now

Social Connect

Back To Top